Bollywood met PM Modi

बॉलीवुड के जाने माने एक्टर्स डायरेक्टर्स हाल ही में पीएम मोदी से देश में बॉलीवुड की स्थिति के बारे में और बॉलीवुड की दिक्कतों के बारे में पहुंचे. मुख्य रूप से पीएम मोदी से मीटिंग देशभर में मूवी थिएटर्स की कमी को लेकर की गई थी लेकिन बॉलीवुड से पहुंची इस टीम में एक भी महिला शामिल नहीं थी.

हालांकि, इसके पीछे का कारण अब तक किसी को नहीं पता है. बॉलीवुड इंडस्ट्री में जितनी अच्छी फिल्में मेल निर्माताओं या लेखकों द्वारा लाई गई हैं उतनी ही महिलाओं द्वारा भी लाई गई हैं. उदाहरण के लिए टीवी की दुनिया में एकता कपूर का बड़ा नाम है. उन्होंने कई टीवी शोज को प्रोड्यूस किया है जो दर्शकों द्वारा काफी पसंद भी किए गए हैं. यहां तक की टीवी वर्ल्ड में जितने शोज एकता के उतने किसी के भी द्वारा नहीं लाए गए हैं.

इसके अलावा उन्होंने बॉलीवुड की कई फिल्मों को भी प्रोड्यूस किया है. इसके अलावा शायद बॉलीवुड को लगता है कि इंडस्ट्री में ऐसी कोई महिला नहीं है जो पीएम मोदी से थिएटर्स के बारे में बात कर सके. ये किसी तरह के ‘Male Topic’ है. लेकिन इसके बाद भी बॉलीवुड के मेल्स गेंडर के बारे में सोचे बिना ही बॉलीवुड को रीप्रिजेंट करने पीएम मोदी से मिलने पहुंचे. इस टीम में आमिर खान, राजकुमार हिरानी और सिद्धार्थ रॉय कपूर जैसे बड़े स्टार और प्रोड्यूसर नजर आए लेकिन इंडस्ट्री की बेहतरीन महिला निर्देशक जैसे जोया अख्तर या नंदिता दास या बॉलीवुड एक्ट्रेस जैसे प्रियंका चोपड़ा जो अब हॉलीवुड में भी अपनी जगह बना चुकी हैं और दीपिका पादुकोण जैसी कलाकार मिसिंग रहीं.

जब पिंक की टीम से बिग बी ने शेयर की थी तस्वीर, मिसिंग रही थी लीड एक्ट्रेसेज

बॉलीवुड द्वारा ऐसा पहली बार नहीं है जब महिलाओं को समानता नहीं दी गई हो. आपको याद दिला दें उस तस्वीर की जिसे अमिताभ बच्चन द्वारा पिछले साल पिंक फिल्म को याद करते हुए शेयर किया गया था. इस तस्वीर में टीम के केवल मेल कलाकार और ब्रैकग्राउंड में काम करने वाले सदस्य ही दिखाई दिए थे लेकिन फिल्म में लीड एक्ट्रेस का किरदार निभाने वाली तापसी, कृति कुल्हारी, अंद्रेआ तारीअंग की तस्वीर नहीं थी.

जबकि पिंक फिल्म मुख्य रूप से महिलाओं पर ही आधारित थी और फिल्म को तीनों एक्ट्रैस द्वारा ही मुख्य रूप से सफल बनाया गया था. इसके बाद भी उन्हें एक तस्वीर में कोई भी स्थान प्राप्त नहीं हुआ. आपको बता दें, बिग बी द्वारा शेयर की गई इस तस्वीर के लिए उन्हें सोशल मीडिया पर काफी ट्रोल भी किया गया था और उन्हें लोगों द्वारा काफी कुछ कहा गया था.

आखिर में मैं सिर्फ इतना ही कहना चाहूंगी कि समानता की बात करने वाले और महिलाओं के हक के लिए बोलने वाले बॉलीवुड के सच में जेंडर इक्वेलिटी को समझना चाहिए और केवल दिखावा करने की जगह कहीं भी बॉलीवुड को रीप्रिजेंट करते हुए इक्वेलिटी के विषय में जरूर सोचना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here